Wednesday, December 26, 2007

विवाह संस्था तोड़नी चाहिए

आप लोगों से क्षमा चाहता हूँ . बहुत दिन से मैं उपलब्ध नहीं हूँ। मैं आप लोगों से विवाह संस्था के बारे में बात करने का इकछुक हूँ । मेरी समझ में जो सिस्टम अभी है, वह समाज को घुन लगा रहा है। वह महिलाओं के खिलाफ भी है।
दिवाकर

1 comment:

Smartphone said...

Hello. This post is likeable, and your blog is very interesting, congratulations :-). I will add in my blogroll =). If possible gives a last there on my blog, it is about the Smartphone, I hope you enjoy. The address is http://smartphone-brasil.blogspot.com. A hug.